इक्विपमेंट अर्थिंग

 इक्विपमेंट अर्थिंग

इक्विपमेंट अर्थिंग में इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट की मेटल बॉडी को एक या उससे अधिक प्रकार से अलग-अलग जगह पर अर्थ किया जाता है

 

इक्विपमेंट अर्थिंग के हेतु

इक्विपमेंट अर्थिंग के हेतु नीचे बताए अनुसार हैं


[1] इक्विपमेंट के लाइव PART के सिवाय उसमें दिए गए जितने भी मेटल भाग हैं उसको  अर्थ पोटेंशियल पर रखा जाता है इसके अलावा उसे ऑपरेट करने वाले ऑपरेटर तथा वहां पर उपस्थित सभी अटेंडेंट को भी अर्थ पोटेंशियल पर रखा जाता है

इसके ऊपर आ इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट के साधन के आसपास के विस्तार को  अर्थ पोटेंशियल पर रखना चाहिए जिससे अबनॉर्मल की कंडीशन में शॉर्ट सर्किट हो या अर्थ फॉल्ट होता हो  तो व्यक्ति को शॉट ना लगे 


[2]  मेग्नीट्यूड और समय के साथ अर्थात दोनों  रीत से अर्थ फॉल्ट करंट आसानी से  प्रवाहित हो सके इस प्रकार की व्यवस्था रखनी चाहिए जिससे अर्थ फॉल्ट के दौरान इक्विपमेंट और बिल्डिंग में आग या  अन्य किसी प्रकार के शॉर्ट सर्किट के कोई भी  समस्या उत्पन्न ना हो


[3]  डैमेज इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट को तुरंत ही सप्लाई सिस्टम से अलग कर देना चाहिए अर्थात आइसोलेट कर देना चाहिए जिससे सिस्टम के परफॉर्मेंस पर कोई भी असर ना हो


 अर्थ इलेक्ट्रोड


अर्थ को जमीन के साथ कनेक्ट करने के लिए कंडक्टर को जमीन में खोसे गए इलेक्ट्रोड के साथ कनेक्ट किया जाता है जिसे अर्थ इलेक्ट्रोड कहते हैं


इंडियन स्टैंडर्ड के प्रमाण पर स्प्रिंकलर पाइप ,गैस, पानी  या  जल सके ऐसे प्रवाही वहन करने वाले पाइप  केबल का मैटालिक एंक्लोजर, लाइटिंग प्रोडक्शन सिस्टम के कंडक्टर इत्यादि का उपयोग अर्थिंग के लिए नहीं किया जाता है और इस प्रकार की वस्तुओं का उपयोग अर्थिंग के लिए नहीं करना चाहिए


आज इलेक्ट्रोड के बारे में हम यहां अब समझेंगे जिसमें इलेक्ट्रोड के पांच प्रकार बताए गए हैं और इसे हम बारी बारी से समझेंगे


[1] रोड इलेक्ट्रोड 

[2] पाइप इलेक्ट्रोड 

[3] स्ट्रिप इलेक्ट्रोड  

[4] COIL कोइल इलेक्ट्रोड और

[5] प्लेट इलेक्ट्रोड 


सबसे पहले हम रोड इलेक्ट्रोड के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे

 

रोड इलेक्ट्रोड 


इस प्रकार का इलेक्ट्रॉन या लोहे के सरिए के प्रकार का होता है जिसे जमीन में सीधा खड़ा जमीन को खोदकर उसमें  रखा जाता है 


EARTH ELECTRODE


यदि वह लोहे का स्टील का दोनों में से किसी भी एक धातु का बना हुआ हो तो तो उसका कम से कम ब्यास 16 MM जितना होना चाहिए  और यदि कॉपर का रोड हो तो कम से कम उसका व्यास 12.5 MM का होना चाहिए और उस प्रकार के रोड पर कलर या इनेमल पेंट जिसे आवाहक पदार्थ से पेंट करना चाहिए जिससे 

उसमें किसी भी प्रकार का  को  जंग  कम प्रमाण में लगे  अर्थात उसकी आयु की कुछ सीमा तक वह इलेक्ट्रोड बिना जंग लगे हुए चल सके


जमीन में कम से कम 1 पॉइंट 25 मीटर [ 1.25M ] की जितनी  गहराई में रखा जाता है


पाइप इलेक्ट्रोड 


पाइप  इलेक्ट्रोड गेलवेनाइज्ड पाइप का बना हुआ होता है  गेलवेनाइज्ड पाइप के अंदर का व्यास 39 MM से कम नहीं होना चाहिए और उस इलेक्ट्रोड की लंबाई 2.5 मीटर से कम नहीं होना चाहिए 

 गेलवेनाइज्ड पाइप में  एक सिरे से 150 MM के अंतर पर  12 MM व्यास वाला हॉल करने में आता है


यह हॉल दो प्लेन में एक ही समान अंतर पर किया जाता है अब इस गेलवेनाइज्ड  पाइप इलेक्ट्रोड को जमीन में कम से कम 1.25 MM की गहराई तक खोसा हो जाता है  और इस प्रकार की पाइप पर भी कलर या इनेमल पेंट का आवाहक की तरह उपयोग किया जाता है जिससे उसमें जंग लगने की संभावना कम रहती है

 इस प्रकार पाइप इलेक्ट्रोड  की अर्थिंग की जाती है


 प्लेट इलेक्ट्रोड  


इस प्रकार का इलेक्ट्रोड यह प्लेट प्रकार का होता है  यह प्लेट कॉपर की अथवा गेलवेनाइज आयन की बनी होती है जो कॉपर की प्लेट होती हो तो 600 MM × 600MM  का होता है  इसकी थिकनेस 3MM की होती है

यदि है गेलवेनाइज्ड आयन  से बनी प्लेट हो तो उसका   उसका माप 600 MM ×  600MM कॉपर की प्लेट जितनी होती है परंतु उसका थिकनेस 6 MM होता है 


 प्लेट को जमीन में 1.5 मीटर की गहराई  तक  खोसा जाता है  उसके साथ-साथ  अर्थिंग लीड को  बोल्ट के साथ फिट कर दिया जाता है यह  अर्थिंग लीड गेलवेनाइज्ड पाइप में से जमीन से बाहर लाई जाती है

इस प्रकार प्लेट इलेक्ट्रोड की  EARTHING की जाती है


 स्ट्रिप इलेक्ट्रोड 


इस प्रकार के अर्थिंग इलेक्ट्रोड  बेर प्रकार के कॉपर की   पट्टी का बना हुआ होता है  जिसमें उसका माप  कम से कम 25 MM × 1.6 MM  जितना होता है और उसका  क्रॉस सेक्शनल एरिया कम से कम 3MM2 चाहिए  उसकी लंबाई उसे अर्थ रेजिस्टेंस नहीं होना चाहिए उसे जमीन में 2 पॉइंट 5 मीटर [ 2.5M ] जितनी गहराई पर हॉरिजॉन्टल ट्रेंच में रखा जाता है


इस प्रकार स्ट्रिप इलेक्ट्रोड के द्वारा अर्थिंग की जाती है


 कोइल  इलेक्ट्रोड   


इस प्रकार के इलेक्ट्रोड में 8 SWG  के जीआई [ GI ] वायर की कोइल बनाने में आती है   COIL का व्यास  50 MM जितना रखा जाता है COIL के 115  बार नजदीक नजदीक में लपेटने में आता है जिसे COIL की लंबाई 450MM  जितनी होती है इसे जमीन में 1.5 M  जितनी गहराई  में खोसा जाता है 

इस प्रकार कोइल इलेक्ट्रोड के द्वारा अर्थिंग की जाती है




Post a comment

0 Comments